Type Here to Get Search Results !

अग्नि शिखा मंच विषय-: भक्ति गीत २१ मई_dr alka

अग्नि शिखा मंच
विषय-: भक्ति गीत 
दिनांक --: 21/5/2021


जय श्री राम
****************

कण कण में श्री राम
जनगण में श्री राम
आज हुई जग जग में चर्चा
जय श्री राम, जय श्री राम! 

त्रेता युग में मानस रुप लेआये राम, 
सरयू नदी के किनारे राम
राम राम जय, जय श्री राम !

दुष्टों का संहार करने
पृथ्वी लोक में आये राम
अयोध्या,दशरथ के घर आये राम
 राम राम जय ,जय श्री राम! 

धन्य हुई कौशल्या की कोख
राम राम जय श्री राम
तीन माताओं का प्यार मिला
राम राम जय , जय श्री राम! 

रामलक्ष्मण,भरत,शत्रुघन सबने
शिक्षा वशिष्ठ गुरु से है पाईश
राम राम जय, जय श्री राम !

विश्वामित्र के संग  जाकर 
अहिल्या का उद्धार किया
राम राम जय, जय श्री राम !

गये जनक सुति सीता के घर
शिव धनुष तोड़ स्वयंबर में
माता सीता को है पाया 
राम राम जय , जय श्री राम 

अयोध्या के श्री प्यारे राम
सीता को संग लाये राम
अयोध्या में खुशहाली छाई
राम राम जय, जय श्री राम! 

कपटी मंथरा की बातों में आई
माता कैकयी गुमराह हुई
कैकयी ने मांगे दो वरदान 
भरत को राज राम को वनवास !
राम राम जय ,जय श्री राम! 

रघुपति रीति सदा चली आई
प्राण जाये पर वचन न जाई 
कठोर बाण ने लिए दशरथके प्राण
राम राम जय, जय श्री राम! 

केवट निषाद ने पग पखारे 
सरयू नदी के किनारे 
मर्यादा पुरुषोत्तम कहलाये राम
राम राम जय ,जय श्री राम! 

बाली,जटायु,अहिल्या तारी
खरदूषण, सुबाहु ताड़का मारी
जुठन बेर खा सबरी को है तारे 
निषाद को दिये वचन निभाये सारे
राम राम जय, जय श्री राम !

कर रावण वध, 
राम सिया घर लाये
संग राम ह्रदय में बसे 
हनुमान को लाये !

राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय ,जय श्री राम! 

कलयुग में अब आये मानस बन प्रभु राम
विश्व का करने को कल्याण
अयोध्या बना बैकुंठ धाम
राम राम जय, जय श्री राम! 

चंद्रिका व्यास 
खारघर,नवी मुंबई

आग्निशीखा मंच को नमन🙏💐💐

विधा: भक्ति गीत

जय जय शंकर जय हो जय हो
,🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏
जय जय शंकर जय हो जय हो
तू है मेरा जीवन आधार।
देवों के देव महादेव हो तुम।
सबका कल्याण करने वाले शंकर हो तुम।
विश्व के ईश्वर विश्वेश्वर हो तुम।🙏
सर्व आत्माओं का सर्वोच्च परमात्मा हो तुम।🙏
कालों के काल महाकाल हो तुम।🙏
तीनों लोक के स्वामी त्रिलोकेश हो तुम।🙏
भक्तों को सरनेम करने वाले भक्तवत्सल हो तुम।🙏
भगवान विष्णु के प्रिय विष्णुवल्लभ हो तुम।🙏
जय जय शंकर जय हो जय हो🙏🙏🙏🙏🙏

डॉ गायत्री खंडाटे
हुबली,कर्नाटक।

🌹भक्ति गीत 🌹
🌹🌹🌹🌹🌹

मां तू है दुर्गा 
मां तू है काली
मां तू ही है
भक्तों की झोली
भरने वाली ।
मां तू है ऊंचे-ऊंचे
पर्वत पर रहने वाली ।
मां तू ही है                     शेरों की सवारी
करने वाली।
खन खन खन
खनके तेरा कंगना
चम चम चम
चमके तेरी बिंदिया । 
कण-कण में तेरा
वास है मां‌ 
जो करे दुखों का 
नाश है मां ।
तेरे चरणों में
मेरी भक्ति है अर्पित
सिर पर रख दे अपना आशीर्वाद वाला हाथ मां
मां शेरावाली तेरी जय हो 
मां दुर्गाभवानीतेरीजयहो।
********************
मौलिक व स्वरचित
डाॅ . आशा लता नायडू .
भिलाई . छत्तीसगढ़ .
********************

नमस्ते मैं ऐश्वर्या जोशी अग्निशिखा परिवार को मेरा नमन
प्रतियोगिता हेतु मैं मेरा भजन गीत प्रस्तुत करती हूं।

नंदलाल

हे मेरे नंदलाल
वृंदावन के हर एक में 
बसी तेरी  जान।

मेरे प्यारे नंदलाल
बाल क्रीडा सुनकर तेरी
हो जाती हूं मैं गुमसुम बारम्बार।

हे मेरे प्यारे नंदलाल
कहे तुझे कोई नटखट 
कहे तुझे कोई समझदार 
तो कहे तुझे प्रेमल
कितनी बार तेरी प्रशंसा सुनते
हो जाती हू मैं गुमसुम बारम्बार।

मेरे प्यारे नंदलाल
कोई कहे तू सावला 
कोई कहे तू मोहक 
कोई कहे तेरी चंद्र सी झलक
 तो कोई कहे रूप तेरा अनुपम
कितनी बार तेरा रूप निहारते
हो गई में गुमसुम बारम्बार।

हे मेरे प्यारे 
कोही कहे तुझे कान्हा
कोई कहे कृष्ण गोपाल
कोई कहे केशव तो कोई अच्युत
इतने सारे नाम गुनगुनाते
हो गई मैं गुमसुम बारम्बार। 

हे मेरे प्रिया पति
प्यारे नंदलाल 
रंग जाऊ तेरे प्रेम में 
रंगू तेरी भक्ति में 
मेरे मन और आंखों को 
सदा तेरा दर्शन पाए 
और तुझमें ही 
मैं गुमसुम हो जाऊ बारम्बार।

धन्यवाद 
पुणे

Post a Comment

1 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.